Wednesday, August 15, 2018

दीपावली पर निबंध हिंदी में - Happy Diwali Essay in Hindi ( रौशनी के त्योहार की पूरी कहानी )



आप सभी को मेरी तरफ से दीपावली / दिवाली की हार्दिक शुभकामनाये , आज के इस लेख में मैं आपके साथ दीपावली पर निबंध ( Diwali essay in Hindi ) शेयर  करने जा  रहा हूँ  | 

जैसा की हम सब जानते है हिंदू त्योहारों में दीपावली का एक अपना ही महत्व है , इस दिन श्री रामचंद्र जी 14 वर्ष का वनवास पूरा करके और  रावण का वध करके अयोधया वापस लौटे थे , उनका स्वागत करने के लिए अयोध्यावासियो ने चारो तरफ दीप जलाकर रौशनी की थी और मिठाईया बाटे थी | 

अगर आप एक विद्यार्थी है तो आपको  भी कभी न कभी  आपके अध्यापको ने  दीपावली पर निबंध लिखने को  बोला  ही होगा , इसलिए मैं आज आपके साथ मैं इस लेख में  सरल एवं आसान शब्दो में दीपावली पर निबंध हिंदी में ( Diwali essay in Hindi ) शेयर करने जा रहा हु | 

तो बिना किसी देरी के चलिए शुरू करते है | 



दीपावली पर निबंध - Happy Diwali Essay in Hindi ( Essay 1)

भारतवर्ष अनेक त्यौहारों का देश है । उन त्योंहारों में से दीपावली हिन्दुओं का एक अत्यन्त प्रसिद्ध त्योहार है ।

दीपावली का अर्थ है दीपों की पंक्ति (कतार) । इस दिन हिन्दू लोग मोमबत्तियों जलाकर उनकी कतार लगा देते हैं । यह पर्व कार्तिक मास के कृष्ण-पक्ष की अमावस्या को सारे भारतवर्ष में बड़ी धूमधाम वा उल्लास के साथ मनाया जाता है । 

इससे एक दिन पहले  छोटी दीपावली तथा  तो दिन पहले धनतेरस मनाया जाता  है । 

इन दिनों  दीपों, मोमबत्तियों तथा बिजली के बल्बों  की इतनी रोशनी की जाती है कि अमावस्या की रात भी पूर्णिमा की रात सी जगमगाने लगती है ।

 इस दिन भगवान श्री राम  चौदह वर्ष का बनवास काटकर माता  सीता तथा भाई  लक्ष्मण के साथ अयोध्या वापस लौटे  थे । इसी उपलक्ष  में अयोध्यावासियों ने इस दिन दीपक जलाए तथा घर-घर में मिठाइयों बाँटी थी । 

इसी लिए आज भी लोग  अपने घरों में दिया जलाते है तथा आतिशबाजी करते  हैं । परम्परान्नग्रंत यह त्यौहार आनन्द, उल्लास तथा विजय का प्रतीक बन गया है । इस दिन सभी बच्चे, बूढे … नए वस्त्र धारण करते हैं 

इस त्यौहार से पूर्व सभी लोग अपनी दुकानों तथा घरों में लिपई-पुताई व सफाई का काम कराते हैं । 

इस शुभ अवसर पर लोग  शुभकामनाओं के साथ अपने मित्रों व सम्बन्धियों को भिन्न-भिन्न प्रकार के उपहार जैसे मिष्ठान् व फलादि भिजवाते हैं । व्यापारी वर्ग के लिए तो इस त्यौहार  का अपना विशेष महत्त्व है । 

 इस शुभ अवसर पर वह  लश्मी-पूजन  करते हैं । नए काम  आरम्भ करते हैं तथा गणेश - लक्ष्मीजी  की बडी श्रद्धा  से पूजा करते हूँ । माता लदमी के आगमन के इंतजार  के साथ है अपने घरों के  द्वार खुले रखते हैं तथा रात भर दीपक आदि जलाकर  रोशनी करते हैं ।  

इस त्यौहार की महानता को एक विशेष अवगुण ने कम कर दिया है। 

इस दिन अनेक लोग जुआ खेलते शराब पीते हैं । इन बुराइयों कं कारण घर के घर बर्बाद  हो जाते हैं ।
 हमें इन बुराइयों को जड़ से उखाड़ने की कोशिश करनी चाहिए

 Diwali Essay in Hindi -  दीपावली पर निबंध हिंदी में ( Essay 2)

भारत के त्योहारों में दीपावली भी एक अत्यंत महत्त्वपूर्ण त्योहार  है । कहते हैं कि जब श्री रामचन्द्रजी लंका-विजय कर अयोध्या  आये तो उसी खुशी में लोगों ने अपने घरों में घी के दीपक जलाये और खुशियाँ मनायी ।

कोई कहते हैं कि माता  दुगाँ ने जब शुम्भ -निशुम्भ  राक्षसों का वध कर दिया तो लोगों ने खुशियां मनायी । वे दोनों राक्षस अत्यन्त अत्याचारी थे ।

 परन्तु आजकल लोग यह मानते हैं कि यह त्योहार माता  लक्ष्मीजी  का है । माता  लक्ष्मीजी  विष्णु  भगवान की भार्या व धन की देवी मानी जाती। अस्तु, व्यायापारी वर्ग या वैश्य लोग इसे बड़े उत्साह से मनाते हैं ।

 दीपावली" का त्योहार कार्तिक  की अमावस्या को मनाया जाता है |  यह त्योहार लगभग पांच दिन चलता है-धनतेरस, छोटी दीपावली, बडी दीपावली, गोवर्धन और भैया -दूज ।

कार्तिकी अमावस्या को दीपावली' का त्योहार होता है । इस दिन लोग नवीन-नवीन वस्त्र धारण करते हैं तथा खिलौने, सुन्दर-सुन्दर मूर्तियाँ, चित्र, मिठाइयों आदि खरीदकर लाते हैं । कोई-कोई  धनी  पुरुष चाँदी की  लक्ष्मीजी की प्रतिमा रखते थे  |

कगडील, मोमबत्ती., फूलझडी सर्वत्र बिकती हुई दिखाई देती है  । संध्या से ही द्वार, बाजार, गली आदिसभी जगमगा उठते है ।

 रात्रि में दिन हो जाता है । कहीं लड़के मोमबत्ती- जलाते , कही  फुलझडी छोड़ते हैं, कही पटाखे जलाते  हैं । घरों में रंग- बिरंगे कण्डीलों का प्रकाश बहुत ही सुन्दर दिखाई देता है । रात  कौ लक्ष्मीजी -पूजन होता है और लोग  खिलौने और मिठाइयों बांटते हैं ।

 व्यापारियों  के लिए यह  विशेषकर  दिन बहुत महत्व रखता है  । वे लोग इनका पूजन भी करते हैं है परन्तु सबसे अधिक दर्शनीय वस्तु तो रोशनी होती है ।

दीपों की जगमगाती पंक्ति मन को मोह लेती है । शहरों में बिजली के हरे, पीले, लाल, नीले बल्बों  से दुकाने तथा घर सजाये जाते हैं ।  मकान चमक उठते हैं ।

 प्रत्येक घर में लक्षमी-पूजन करने के उपरान्त लोग रोशनी देखने जाते हैं और बाजारों में मनुष्यों की भीड़ लग जाती है । सभी मनुष्य अपने सुन्दर से सुन्दर कपडे पहनकर निकलते हैं । इसी को हम दीपावली- का त्योहार कहते हैं ।

तो दोस्तो दीपावली पर निबंध (Diwali essay in Hindi ) यही समाप्त  होता है | अगर आपको यह पसंद  है तो इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पे शेयर करना न भूले और कमेंट सेक्शन में यह भी बताये की आपको यह कैसा  लगा 
Share:

0 comments:

Post a Comment

Copyright © Happy Diwali 2018 Wishes , Images and Status | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com